What is GDP | & How to calculate it? || GDP क्या होती हैं ||

What is GDP means?

अक्सर आपने सुना होगा कि किसी देश की GDP(सकल घरेलू उत्पादन) बढ़ रही है या घट रही है लेकिन कुछ लोग इस शब्द को बार-बार सुनते तो है लेकिन GDP का सही मतलब नहीं जान पाते और इसे कैसे कैलकुलेट किया जाता है? यह भी जानने की कोशिश नहीं करते| लेकिन आज हम आपको बताएंगे कि, किसी देश की GDP क्या होती है और किसी भी देश की GDP को कैसे कैलकुलेट किया जाता है|

GDP का मतलब (Gross Domestic Productivity) सकल घरेलू उत्पादन होता है जैसे अगर किसी देश में 1 वर्ष में उत्पादित होने वाले सामान तथा सर्विस को मिला दिया जाए और उसकी कीमत बाजार के मूल्य के अनुसार लगा दी जाए तो वह किसी देश की GDP कहलाती है, मतलब किसी देश में 1 वर्ष में उत्पादित वस्तुओं तथा सेवाओं को ही हम किसी देश की GDP कहते हैं| दोस्तों GDP तीन चीजों पर आधारित होती है-

1-AGRICULTURE (कृषि)                          2- INDUSTRY (उद्योग)                     3- SERVICES (सेवाएं)

यहां पर इन तीनों के बढ़ने या घटने के औसत के आधार पर किसी देश की GDP तय की जाती है| GDP को अर्थव्यवस्था का सूचक भी कहा जाता है क्योंकि इससे मार्केट में होने वाले कारोबार की गति का भी पता चलता है, GDP में केवल घरेलू उत्पादन को ही गिना जाता है अर्थात जो वस्तुएं हमारे देश में बनी होती है उन्हीं के मूल्य को GDP में जोड़ा जाएगा| भारत में बनी  हुई कोई वस्तु दूसरे देश में जाकर बेची जा रही है तो यह हमारे देश की GDP में ही जोड़ा जाएगा और अगर कोई वस्तु किसी दूसरे देश में बनती है और हम उसे अपने देश में आयात करते हैं तो वह हमारी GDP में कैलकुलेट नहीं किया जाएगा|

‘किसी देश की अर्थव्यवस्था कैसी है’ यह जानने का सबसे अच्छा तरीका GDP है|“आइए समझते हैं कि GDP को कैसे कैलकुलेट किया जाता है?” मान लीजिए किसी देश में 100 कार बनाई जाती हैं और एक कार की कीमत ₹2,00,000 है तो यहां पर उस देश की GDP 2 करोड रुपए मानी जाएगी| लेकिन सरकार द्वारा जीडीपी को एक फार्मूले के द्वारा कैलकुलेट किया जाता है जो इस प्रकार है-

                                                         GDP= C+I+G+(X-M)

दोस्तों GDP, किसी भी देश की आर्थिक स्थिति के बारे में बताती है यह मात्र एक नंबर होता है किसी भी देश की GDP एक निश्चित समय के लिए मापी जाती है जैसे 1 साल के लिए|GDP को कैलकुलेट करने के बाद जो अंक निकलकर आता है उसके आधार पर अलग-अलग देशों की GDP की तुलना की जाती है और पता किया जाता है कि दूसरे देशों के मुकाबले हमारे देश की आर्थिक स्थिति कैसी है|

आइये अब समझते हैं कि किसी देश की GDP कैसे बढ़ती हैं? दोस्तों किसी देश की GDP तब बढ़ती है जब उस देश के निवासी उसी देश की बनी हुई वस्तुओं को खरीदते हैं जैसे अगर आप भारत में रहते हो तथा भारत में बनी हुई वस्तुओं को खरीदते हो तो भारत की GDP बढ़ेगी लेकिन अगर आप भारत में रहकर दूसरे देशों की चीजों को खरीदते हो तो दूसरे देश की GDP बढ़ेगी जैसे अगर भारत के लोग चीन की वस्तुएं ज्यादा खरीदेंगे तो इस स्थिति में चीन की GDP में वृद्धि होगी|

अगर भारतीय लोग भारतीय कंपनियों की वस्तुएं तथा सेवाओं को ज्यादा खरीदेंगे तो भारत की GDP में वृद्धि होगी और इसका प्रभाव भारतीय शेयर बाजार पर भी पड़ेगा, भारतीय शेयर बाजार पर रजिस्टर्ड कंपनियों में ग्रोथ देखने को मिलेगी और हमारा देश विकसित देशों की तरह अग्रसर होगा इसी प्रकार देश में चल रही व्यवसायिक क्रियाओं का प्रभाव शेयर मार्केट में देखने को मिलता है|

हम आशा करते हैं कि आपको GDP का मतलब समझ आया होगा और GDP को कैसे कैलकुलेट किया जाता है- आप यह भी समझ गए होंगे| अगर आपका इस पोस्ट के प्रति कोई सवाल या सुझाव है तो आप हमें कमेंट बॉक्स में लिख सकते हैं|

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *